Wednesday, September 14, 2011

जाने कब होंगे कम इस दुनिया के ग़म ..............(नुसरत फ़तह अली )


1 comment:

  1. खुबसूरत प्रस्तुति ...

    ReplyDelete